Results for "गढ़वाली"

Blogs

    • Anup Singh Rawat

      ::: दहेज़ पर गढ़वाली कविता :::

      ::: दहेज़ पर गढ़वाली कविता ::: कनु फैल्युं च समाज मा, यु निर्भे दहेज़ कु रोग । नि लेणु-देणु द...अनूप बोलणु सभ्युं से, आज नई शुरुआत करी दयोंला ।। © अनूप रावत "गढ़वाली इंडियन" ग्वीन, बीरोंखाल,...

      • Anup Singh Rawat

        दहेज़ पर गढ़वाली कविता

        दहेज़ पर गढ़वाली कविता   कनु फैल्युं च समाज मा, यु निर्भे दहेज़ कु रोग । नि लेणु...नूप बोलणु सभ्युं से, आज नई शुरुआत करी दयोंला ।। © अनूप रावत “गढ़वाली इंडियन” दिनांक –...

        • Garhwali

          वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली

          ...महान योद्धा - वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली उत्तराखण्ड प्रदेश में बड़े-...जन्म लिया है। जिनमें चन्द्र सिंह गढ़वाली का नाम सर्वोपरि माना जाता है।...मिल पाया जिसके वे हकदार थे। श्री गढ़वाली एक निर्भीक देशभक्त थे, वे बेड़...नाम पर लोग मलाई चाट रहे थे, वहीं गढ़वाली जी अपने साथियों की पेंशन के ल...

          • Garhwali

            Garhwali kavita।। गढ़वाली कविता।

            Garhwali kavita।। गढ़वाली कविता।    Garhwali Kavita मन बोल्द गीत लगौंदु रौं मी मैत कि डांडी कांठ्यों मा बुलेंद झुमैलो लगौंद...

            • Anup Singh Rawat

              नै पहाड़ी जिला बणे द्यो सरकार

              ...ि चयेन्दु हमथै नथर पौड़ी ही रैण दियां.. पछ्याण पहाड़ी रैण दियां हमारी अर गढ़वाली अन्वार... नै पहाड़ी जिला बण...नै पहाड़ी जिला बणे द्यो सरकार... ©13-07-15 अनूप सिंह रावत "गढ़वाली इंडियन" ग्वीन मल्ला, बी...

              • Anup Singh Rawat

                गढ़वाली कविता : देवभूमि त्वे भट्याणी च

                गढ़वाली कविता : देवभूमि त्वे भट्याणी च देवभूमि त्वे भट्याणी च, सूणी ले रे हे दगिड्या, कब बिटि की धै लगाणी च, बौडी आवा, लौटी आवा । 1। तिबारी डिंडाळी भट्याणी...

                • Anup Singh Rawat

                  शीर्षक : कतगा बदल गया अब उत्तराखंड

                  ...ाकी, ब्वाड़ा-बोड़ी को, अंकल-आंटी बुलाते देखे।। गढ़वाली तो कतई नहीं बच्याते, हिंदी-अ...मसूबाज छोड़ि, नयु जमानु का डी जे बजा रहे थे। गढ़वाली गाने में दाने लोग नाचते और,...ा।10। ©23-12-2015 अनूप सिंह रावत "गढ़वाली इंडियन" ग्वीन मल्ला, बी...

                  • Garhwali

                    भोजन संबंधी गढ़वाली लोक कहावत आज का अर्थ मा

                    १- खिचड़ी पकदी घीयक बरोळी लमडी २-ब्वै नौनु से -खाणै त कद्दू , नि खाणै त  कद्दू – ३- आरु बेडु आफु खौ , बैद भगार हैंका लगौ – ४-एक दां खयाल ,...

                    • Anup Singh Rawat

                      अनूप सिंह रावत

                      ...द (उत्तर प्रदेश) शिक्षा - एम. ए. (English , अर्थशास्त्र ), बी.एड वर्तमान पता - इंदिरापुरम, गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश) व्यवसाय - ICAI में कार्यरत गढ़वाली रचनाएं - http://iamrawatji.bl...

                      • Anup Singh Rawat

                        “ बाटू ”

                        ...मैत आणु, त क्वी परदेश च जाणु। बाटू, वै जै ‘अनूप’ ब्वनु, जख बल मनख्यात हो, सुकर्म मा दिन रात हो। © अनूप सिंह रावत “गढ़वाली इंडियन” दिनांक –...

                      Today's Deals: Great Savings Booking.com Booking.com