भोजन संबंधी गढ़वाली लोक कहावत आज का अर्थ मा

    Garhwali
    By Garhwali

    5/5 stars (2 votes)

    १- खिचड़ी पकदी घीयक बरोळी लमडी

    २-ब्वै नौनु से -खाणै त कद्दू , नि खाणै त  कद्दू –

    ३- आरु बेडु आफु खौ , बैद भगार हैंका लगौ –

    ४-एक दां खयाल , तब बाँध कुटरी – (पहले वर्तमान सम्भालो फिर भविष्य की चिंता करो )-

    ५-जख्या भंगुल ह्वाइ –

    ६- बगैर मिट्ठौ चाय मा झंग्वर खाण – (  बेमेल )

    ७- जब नि रै गे दांत तब मीलि  कछबोळी, जब सौड़ी अंतड़ी तब दिखे ( शिकारै)  टुकड़ी –

    ८-खटु पळयो खैक बुलण –

    ९- खीर मा लूण –

    Latest comments

    Today's Deals: Great Savings Booking.com Booking.com