गढ़वाली मुहावरे

    Garhwali
    By Garhwali

    5/5 stars (2 votes)

    ★दान आदिम की बात और आँमला कु स्वाद, बाद मा आन्दु ।

    ★.बान्दर का मुंड मा टोपली नि सुवान्दी ।

    ★.मि त्येरा गौं औलू क्या पौलू,तु मेरा गौं औलू क्या ल्यालु ।

    ★भेल़ लमड्यो त घौर नी आयो, बाघन खायो त घौर नी आयो।

    ★नि खांदी ब्वारी , सै-सुर खांदी ।

    ★ ब्वारी बुबा लाई बल अर ब्वारी बुबन खाई

    ★उछलि उछलि मारि फालि, कर्म पर द्वी नाली।

    ★अकल का टप्पु, सरमा बोझा घोड़ा मां अफु।

    ★सौण मरि सासू, भादो आयां आंसू।

    ★जु नि धोलो अफड़ो मुख, उक्या देलो हैका तैं सुख।

    ★ पढ़ाई लिखाई बल जाट, अर 16 दुनी आठ ।

    ★बिरालु मरयूं सबुन देखी, दूध खत्युँ कैन नि देखी ।

    ★ भिंडि बिराल्युं मा मुसा नि मरियेंदन।

    ★जै गौ जाण ही नी, वे गौं कु बाठु क्या पूछण ।

    ★मैं राणी, तू राणी, कु कुटलु, चीणा दाणी ।

    ★पठालु फ़ुटु पर ठकुराण नी उठु

    ★जख कुखड़ा नि होन्दा, तख रात नि खुल्दी

    ★बिगर अफ़ु मरयां, स्वर्ग नि जयेन्दु ।

    ★पैंसा नि पल्ला, दुई ब्यो कल्ला ।

    ★एक कुंडी माछा, नौ कुंडी झोल ।

    ★गोणी अपड़ु पुछ छोटु ही दिख्येन्दु ।

    ★सासु बोल्दी बेटी कू , सुणान्दी ब्वारी कू ।

    ★फाडू मुंड, अफ़ु नि मुंड्येन्द ।

    ★लुखु की साटि बिसैंई, म्यारा चौंल बिसैंई ।

    ★हाथा की त्येरी, तवा की म्यरी ।

    ★कखी डालु ढली, खक गोजु मारी ।

    ★जन मेरी गौड़ी रमाण च, तन दुधार भी होन्दी ।

    ★स्याल, कुखड़ों सी हौल लगदु त बल्द भुखा नि मरदा क्या ?

    ★मेंढकुं सी जु हौल लगदु त लोग बल्द किलै पाल्दा ?

    ★बुडीड पली ही इदगा छै, अब त वेकु नाती जु हुवेगी ।

    ★हैंका लाटु हसान्दु च, अर अपडु रुवान्दु च ।

    ★बाखुरी कु ज्यू भी नि जाऊ, बाग भी भुकु नि राऊ ।

    ★लौ भैंस जोड़ी, नितर कपाल देन्दु फ़ोड़ी ।

    ★जख मेल तख खेल, जख फ़ूट तख लूट ।

    ★जाणदु नि च बिछी कु मंत्र, साँपे दुली डाल्दु हाथ ।

    ★ तू ठगानी कु ठग, मी जाति कु ठग ।

    ★ ठुलो गोरू लोण बुकाओ , छोटु गोरू थोबड़ु चाटु।

    ★लूण त्येरी व्वेन नी धोली , आंखा मीकु तकणा।

    ★ भुंड न बास, अर शरील उदास ।

    ★भिंडि खाणु तै जोगी हुवे अर बासा रात भुक्कु ही रै ।

    ★अपड़ा जोगी जोग्ता , पल्या गौं कु संत ।

    ★बिराणी पीठ मा खावा, हग्दी दाँ गीत गावा ।

    ★ पैली खयाली खारु, फ़िर भाडा पोछणी ।

    ★ ब्वारी खति ना… , सासु मिठौण लग्युं… ।

    ★ खाँदी दाँ गेंडका सा, कामों दाँ मेंढका सा । (कामों दाँ आंखरो-कांखरो, खाँदी दाँ मोटो बाखरो ।)

    ★ खायी ना प्यायी, बीच बाटा मारणु कु आयी ।

    ★बांटी बूंटी खाणि गुड़ मिठै, इखुलि इखुलि खाणि गारे कटै।

    ★भग्यानो भै काल़ो, अभाग्यू नौनू काल़ो।

    ★ नोनियाल की लाईं आग , जनाना को देखुयुँ बाघ

    ★जै बौ पर जादा सारू छौ वे भैजी भैजी बुन्नी

    ★बाग गिजी बाखरी बिटि, चोर गिजी काखड़ी बिटि ।

    ★ म्यारू नौनु दूँ नि सकुदु , २० पता ख़ूब सकुदु ।

    ★धुये धुये की ग्वरा, अर लगै लगै की स्वरा नि होन्दा ।

    ★कौजाला पाणी मा छाया नि आन्दी ।

    ★अपड़ा लाटा की साणी अफु बिग्येन्दी ।

    ★ बड़ी पुज्यायी का भी चार भांडा, छोटी पुज्यायी का भी चार भांडा ।

    ★ अपड़ा गोरुं का पैणा सींग भी भला लगदां ।

    ★ साग बिगाड़ी माण न, गौं बिगाड़ी रांड न ।

    ★ कोड़ी कु शरील प्यारु, औंता कु धन प्यारु ।

    ★जन त्येरु बजणु, तन मेरु नाचणु ।

    ★ ना गोरी भली ना स्वाली ।

    ★राजौं का घौर मोतियुं कु अकाल ।

    ★जख मिली घलकी, उखी ढलकी ।

    ★ भैंसा का घिच्चा फ्योली कु फूल ।

    ★ सब दिन चंगु, त्योहार कु दिन नंगु ।

    ★ त्येरु लुकणु छुटी, म्यरु
    भुकण छुटी ।

    ★कुक्कूर मा कपास और बांदर मा नरियूल ।

    ★ सारी ढेबरी मुंडी माँडी , अर पुछ्ड़ी दाँ न्याउँ (म्याउँ) ।

    Latest comments

    Today's Deals: Great Savings Booking.com Booking.com