Garhwali kavita।। गढ़वाली कविता।

Garhwali kavita।। गढ़वाली कविता। 
 

Garhwali kavita, गढ़वाली कविता
Garhwali Kavita


मन बोल्द गीत लगौंदु रौं मी
मैत कि डांडी कांठ्यों मा
बुलेंद झुमैलो लगौंदु रौं मी
मैत कि बाठी-बाठ्यों मा
मन बोल्द घुघती सी घुरदु रौं मी
मैत कि डाळी ब्वटळ्यों मा
मन बोल्द घ्यंडुडी सी रिटदु रौं मी
मैत कि चैक ड़िड्ळ्यों मा
मन बोल्द चोळी सी बसदु रौं मी
मैत कि वलि-पलि खोळ्यों मा
मन बोल्द म्वारी सी चिप्टीं रौं मी
मैता कि बाड़ी सगाड्यों मा
मन बोल्द पाणी सी बग्दो रौं मी
मैत कि गाड़-गदीन्यों मा
मन बोल्द कुयेड़ी सी लौंकदु रौं मी
मैत कि उचि निशि डाड्यों मा

Latest comments

Today's Deals: Great Savings Booking.com Booking.com