All site blogs

    • Garhwali

      10 Gems of Uttarakhand who have made it big in Bollywood

      By Garhwali

      5/5 stars (2 votes)

      Uttarakhand which has been a home to the towering peaks and an abode to nature’s munificence has equally amazing people as its vivid geography. Many creative minds have taken birth at this celestial place be it writers, mountaineers,...
      • Garhwali

        वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली

        By Garhwali

        5/5 stars (2 votes)

          महान योद्धा - वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली उत्तराखण्ड प्रदेश में बड़े-बड़े महान योद्धाओं ने जन्म लिया है। जिनमें चन्द्र सिंह गढ़वाली का नाम सर्वोपरि माना जाता है। वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली का जन्म 25 दिसम्बर 1891 में ग्राम मासी, रौणीसेरा, चौथान...
        • Garhwali

          Maldevta waterfall

          By Garhwali

          5/5 stars (2 votes)

          Dehradun valley is surrounded by many picnic palaces but population of Dehradun is increased day by day  so that you don't think any place you found empty in Saturday and sunday .   maldevta...
          • Garhwali

            गढ़वाली मुहावरे व लोकक्तियाँ

            By Garhwali

            5/5 stars (2 votes)

            घी ख्त्यो बोड्यु मा।  घी गिरा पर बर्तन में। [भावार्थ- हानि जैसा होने पर भी हानि ना होना]  जुवों कि डारा घाघरू नि छोड़ेन्दो।   जुवों कि डर से घाघरा नहीं छौड़ा जाता। [भावार्थ- सभी कुछ अनुकूल नहीं होता, कुछ प्रतिकूल होने पर भी...
            • Garhwali

              Garhwali muhavare (idioms)

              By Garhwali

              5/5 stars (2 votes)

              1. कख राजुला सौक्यान आर कख दानपूर का ----- मतलब कह्ना राजा भोज और कह्ना गन्गु तेली  2. गन्गा मा का जौ - मुस्किल काम  3. बीरू लगी बीरू धार शीरू लगी शीरू धार मत्लब अपने अपने रास्ते पर चलना या अलग होना  4. निद्यो को घट्ट छीजो - जो...
              • Garhwali

                भोजन संबंधी गढ़वाली लोक कहावत आज का अर्थ मा

                By Garhwali

                5/5 stars (2 votes)

                १- खिचड़ी पकदी घीयक बरोळी लमडी २-ब्वै नौनु से -खाणै त कद्दू , नि खाणै त  कद्दू – ३- आरु बेडु आफु खौ , बैद भगार हैंका लगौ – ४-एक दां खयाल , तब बाँध कुटरी – (पहले वर्तमान सम्भालो फिर भविष्य की चिंता करो...
                • Garhwali

                  युगों से याद हैं सुमाड़ी के 'पंथ्‍या दादा'

                  By Garhwali

                  5/5 stars (2 votes)

                  'जुग जुग तक रालू याद सुमाड़ी कू पंथ्‍या दादा' लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी के एक गीत की यह पंक्तियां आपको याद ही होंगी. यह वही सुमाड़ी गांव के पंथ्‍या दादा थे, जिन्‍होंने तत्‍कालीन राजशाही निरंकुशता और जनविरोधी आदेशों के विरोध...
                  • Garhwali

                    गढ़वाली कहावतें/लोकोक्तियां

                    By Garhwali

                    5/5 stars (2 votes)

                    घौड़ा मा ढांग प्वोड़ू या ढांग मा घौड़ू होण घौड़ै कि ई रांड च काठै बिराळी त् मैं बणौलू पण म्याणऊं कू कौरलू मुसा का छन पराण जाणा अयेडि़ बोदी सकून ई नि बण्डि खाणौं जोगी ह्वयों अर पैलि बासा भू‍क्कि रयों रौ-रौ बाबा बल खा-खा न बाबा...
                    • Garhwali

                      पहाड़ी कहावतें II

                      By Garhwali

                      5/5 stars (2 votes)

                      जाण न पछ्याण मि त्येरु मैमान।  दुति एक सरग मा थेकळी लगान्दी हैकि उदाड़ी लांदी।  मुंडा मकै फवाक।  अग्ने कि जगि मुछळी पैथरि आंदी।   जन रमाळ च गौड़ी तन दुधाळ बी होंदी।   लताड़ च पर दुधाळ खूब च।  माछा नि खांदू पर...
                      • Garhwali

                        गढ़वाली मुहावरे

                        By Garhwali

                        5/5 stars (2 votes)

                        ★दान आदिम की बात और आँमला कु स्वाद, बाद मा आन्दु । ★.बान्दर का मुंड मा टोपली नि सुवान्दी । ★.मि त्येरा गौं औलू क्या पौलू,तु मेरा गौं औलू क्या ल्यालु । ★भेल़ लमड्यो त घौर नी आयो, बाघन खायो त घौर नी आयो। ★नि खांदी ब्वारी , सै-सुर खांदी...

                      Today's Deals: Great Savings Booking.com

                      Latest comments


                      Booking.com